एक गांव जहां की जाती है राक्षस की पूजा । a village where demons worshipped

भारत में एक ऐसी गाँव भी  है जहां लोग कभी भगवान की पूजा नहीं करते ना  कोई देवता या देवी की पूजा की जाती है। बल्कि यहां एक राक्षस की पूजा करते है। इसका मतलाब यह बिल्कुल भी नही है कि यहां तंत्र, मंत्र, टोना या काला जादू किया जाता है यह गाँव भी आम गाँव की तरह ही है लेकिन यहां के लोग केवल एक ही देवता की पूजा करते है। यहां के लोगो द्वारा हनुमान जी का नाम लेना भी पाप माना जाता है।

एक गांव जहां की जाती है राक्षस की पूजा । a village where demons worshipped


निंबा दैत्य की कहानी | Story Of Nimba Daitya

किंवदंती के अनुसार दैत्य निंबा एक राक्षस था। वह हनुमान जी की भांति ही भगवान राम का एक महान भक्त था। एक बार जब पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ भगवान राम इस क्षेत्र के केदेरेश्वर मंदिर की यात्रा कर गुजर रहे थे। तब दैत्य निम्ब को इस बात का पता चला। उसने भगवान राम से मिलने का फैसला किया।
जब उसे पता चला कि हनुमान उससे भी बड़ा राम भक्त है तो उसे इस बात पर बहुत अधिक क्रोध आया और हनुमान को देख कर ईर्ष्या होने लगी। ईर्ष्या के वशीभूत होकर वह हनुमान जी के साथ युद्ध शुरू कर दिया। दोनों के बीच एक बड़ा युद्ध हुआ। ये युद्ध बहुत समय तक चलता रहा तब भगवान राम ने दोनो के बीच आकर युद्ध समाप्त करवाया।

राक्षस द्वारा अपनी भक्ति को देखते हुए, भगवान राम ने दैत्य निम्बा को उस गांव का संरक्षक घोषित किया और उसे आशीर्वाद दिया की यहाँ के लोग सिर्फ उसी की पूजा करेंगे। इसलिए, यहां रहने वाले हर किसी को दैत्य की पूजा करने का नियम उस समय से चला आ रहा है और वे सिर्फ उसे ही अपना भगवन मानते है। यही कारण है कि कोई भी यहां हनुमान की पूजा नही करता है क्योंकि दैत्य निंबा ने हनुमान जी को कभी पसंद नहीं किया। इसीलिए लोग यहां हनुमानजी से नफरत करते हैं। यहां सिर्फ दैत्य निम्बा महाराज का एक ही मंदिर इस गाँव मे है और अन्य किसी भी देवी देवता का नही। इस गांव के लोग अपने घरों को मंदिर से ऊँचा नही बनवा सकते क्योंकि घरों को मंदिर से ऊँचा बनवाने को दैत्य निम्बा का अपमान माना जाता है।


मारुति कार है वर्जित | Maruti Car Not Allowed


यदि आप इस गांव में जाना चाहते हैं तो आप मारुति कार में नहीं जा सकते हैं। मारुति कार का इस गांव में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। क्योकि भगवान हनुमान का एक नाम मारुति भी है, इसीलिए यहां मारुति कार का प्रवेश निषेध है। यहां हनुमान को एक खलनायक माना जाता है। नंदुर निम्बा दैत्य गाँव के नाम से प्रसिद्ध इस गांव में लोग एक राक्षस की पूजा करते है। निम्बा नामक दैत्य यहां का प्रधान देवता है।

कैसे पहुंचे | How To Reach


यह गांव मुंबई से 260 KM की दुरी पर बसा है। इस गांव का नाम नंदुर निम्बा दैत्य है। नंदुर निम्बा दैत्य गाँव भारत के महाराष्ट्र में अहमदनगर जिले की पाथरडीह तहसील में स्थित है। यह उप-जिला मुख्यालय पथरडी से 24 किमी दूर और जिला मुख्यालय अहमदनगर से 66 किमी दूर स्थित है
एक गांव जहां की जाती है राक्षस की पूजा । a village where demons worshipped एक गांव जहां की जाती है राक्षस की पूजा । a village where demons worshipped Reviewed by Bharat Darshan on अगस्त 10, 2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.